Monthly Archives: July 2018

ख्वाइशें कुछ ऐसी

रचनाकार – हेमा जोशी

25298250528_ce32910365_n

photo credit: hehaden Faded glory, fading light via photopin (license)

ख्वाइशें कुछ ऐसी

ख्वाइशें कुछ ऐसी, नन्हे जुगनू जैसी
अंधेरे में उस उजाले की तरह, जिसे उंगलियाँ छूना चाहती हैं
हैं अनगिनत तारों की तरह,
जिन्हें मैं हर रात निहारती हूँ, बातें करती हूँ
और छू लेना चाहती हूँ
हैं प्यारी, अनगिनत ओस की बूंदों की तरह
ये ख्वाइशें कुछ ऐसी,
जो उड़ जाना चाहती हैं पंख लगाकर Continue reading

My Favourite Stories From Contemporary Bengali Literature : The Lone Tree

28317470829_8e99126b55_nI moved to this new accommodation in January this year. The design and construction of this residential complex is quite strange. None of the residents seems to have any clue about what came to the architect’s mind to have designed such a stupid tower. No ventilation, no windows, no outside view. Everything is closed with glass panes, shutters, walls. We don’t even know what colour the sky is at any time of the day or whether it is raining outside or is it sunny. Continue reading

इंद्रासन प्राप्त करो तुम

रचनाकार – गौरव मिश्र

mountain_large

photo credit: Miradortigre Aoraki via photopin (license)

इंद्रासन प्राप्त करो तुम

अस्थिर अशांत इस जग में
क्यों मूक बना सोता है,
यह रत्नविभूषित जीवन

क्यों इसे व्यर्थ खोता है ?

तू नहीं जानता पागल
यह समय कभी नहीं रुकता,
यह काल अमिट अविनाशी

पद चिह्न छोडता चलता । Continue reading