Tag Archives: Guest

ये क्या देखता हूँ

रचनाकार — प्रदीप बहुगुणा ‘दर्पण’

7977933199_54020ee544_n

ये क्या देखता हूँ

किसी बुरी शै का असर देखता हूं ।
जिधर देखता हूं जहर देखता हूं ।।

रोशनी तो खो गई अंधेरों में जाकर ।
अंधेरा ही शामो सहर देखता हूं ।। Continue reading

क्यों आग बुझा नहीं देते

रचनाकार – ऋतेश मिश्रा 

29785454138_db01161131_n

                    क्यों आग बुझा नहीं देते

                    क्यों आग बुझा नहीं देते?
                    नफरत से प्रचंड कर, विसंगति से विपुल कर
                    क्यों चिनगारियों को मशालों मॆं धधका देते?
                    क्यों आग बुझा नहीं देते? Continue reading

ख्वाइशें कुछ ऐसी

रचनाकार – हेमा जोशी

25298250528_ce32910365_n

photo credit: hehaden Faded glory, fading light via photopin (license)

ख्वाइशें कुछ ऐसी

ख्वाइशें कुछ ऐसी, नन्हे जुगनू जैसी
अंधेरे में उस उजाले की तरह, जिसे उंगलियाँ छूना चाहती हैं
हैं अनगिनत तारों की तरह,
जिन्हें मैं हर रात निहारती हूँ, बातें करती हूँ
और छू लेना चाहती हूँ
हैं प्यारी, अनगिनत ओस की बूंदों की तरह
ये ख्वाइशें कुछ ऐसी,
जो उड़ जाना चाहती हैं पंख लगाकर Continue reading

इंद्रासन प्राप्त करो तुम

रचनाकार – गौरव मिश्र

mountain_large

photo credit: Miradortigre Aoraki via photopin (license)

इंद्रासन प्राप्त करो तुम

अस्थिर अशांत इस जग में
क्यों मूक बना सोता है,
यह रत्नविभूषित जीवन

क्यों इसे व्यर्थ खोता है ?

तू नहीं जानता पागल
यह समय कभी नहीं रुकता,
यह काल अमिट अविनाशी

पद चिह्न छोडता चलता । Continue reading

Fountainhead

Guest poem by Ritesh Kumar Mishra

4e280-6528262901_f1dde610bc_n

photo credit: gmeador Tree at Eufaula Pond via photopin (license)

Open your fount
to mount the mount
of shame, selfishness, and want
to rain the daunt
of dint, mint, and quaint [1]
Continue reading