Tag Archives: Communication

चरित्र का प्रतिबिम्ब

3336a-28384405906_8335d42210_n
मैं आजकल बहुत संभल-संभल कर बोलता और लिखता हूँ, डर रहता है कि कहीं किसी को मेरी बात चुभ न जाए । वैसे भी कन्या राशि वालों की यही तो दुर्बलता है कि वे आलोचना बहुत करते हैं, वह भी चुभने वाली । लेकिन साथ ही मैं आपको आश्वासन देता हूँ कि यदि आप हम लोगों की आलोचना को व्यक्तिगत रूप से न लेकर सर्जनात्मक और रचनात्मक रूप से लें तो आप पाएँगे कि वे सभी टिप्पणियाँ वस्तुतः सत्य हैं और आपके हित ही में हैं । चापलूसी तो हम लोग करते नहीं, किंतु प्रेम और मैत्री उनके वास्तविक स्वरूप में ही करते हैं । एक रहस्य की बात कहूँ तो यदि आप कभी हमारी व्यक्तिगत डायरी पढें तो पाएँगे कि जितनी आलोचना हम दूसरों के विचारों और व्यवहार की करते हैं, उससे कई गुना अधिक अपनी स्वयं की करते हैं । यदि आप बाहर के इस आग के दायरे को पार कर सके, तो पाएँगे कि वास्तव में हम अत्यधिक नम्र और कोमल हृदय हैं ।

Continue reading

Could You Please Keep It In Silent Mode?

53fb0-28354124592_d2453cb3cc_n

One can take it for granted that one can own technology, but may not possess the manners demanded from the use of it. The etiquette of it. They may own gadgets, but may not be aware of the do’s and don’ts that come with it. It could be mobile phone, or other gadgets. And it is the mobile phone where it is the most evident. Continue reading

On Communication

communication1Communication is very important for fostering peace and resolving conflicts. Just talking things over, not necessarily on the points of conflict or difference, prepares an amicable environment conducive for further friendly relations. The diffusion of air from both sides brings about mixing and a uniformity of thought. Contrary to general perception, it does not rob us of our views, thoughts, culture; instead it makes us more tolerant towards the view of the other side. Continue reading